Saturday, February 13, 2010

पुणे की जर्मन बेकरी में आज सांय साड़ेसात बजे धमाका हुआ

पुणे की जर्मन बेकरी में आज सांय साड़ेसात बजे धमाका हुआ

इसमें अब तक आठ निर्दोषों के मारे जाने की पुष्ठी हो चुकी है
घायलों की संख्या दहाई तक पहुँच गई है
इस वीभत्स काण्ड को आरोप प्रत्यारोप का केंद्र ना बनाते हुए यह कहना उपयुक्त ही होगा की केंद्र और राज्य के चौकसी के सभी दावे ध्वस्त हो गए हैं
और महाराष्ट्र में मुख्य विपक्ष शिव सेना और मनसे की तोड़ फोड़ की राजनीति से सुरक्षा बलों का ध्यान बंटता है
इसीलिए समय आ गया है की निजी स्वार्थ सिद्धि को छोड़ कर राष्ट्र हित में कंधे से कंधा मिलाना होगा क्योंकि इतिहास बताता हे की हमारी आपसी फूट के बल पर ही विदेशिओं ने हमारा शोषण किया है

5 comments:

श्याम कोरी 'उदय' said...

महाराष्ट्र में मुख्य विपक्ष शिव सेना और मनसे की तोड़ फोड़ की राजनीति से सुरक्षा बलों का ध्यान बंटता है...
....सच कहा, इसी मौके का फ़ायदा उठा कर आतंकवादी घटनाएं हो जाती हैं !!!

राज भाटिय़ा said...

जब नेता उल जलूल बाते करते है, अपनी सुरक्षा पर ज्याद ध्यान देते है तो ऎसी ही होता है, ओर यह तत्व मोके का लाभ ऊठा लेते है

BK Chowla, said...

It is all Ram Bharose

psingh said...

बिलकुल सही कहा आपने
लोग सिर्फ राजनेतिक रोटियां सेंक रहे
है देश के बारे में सोचने में
इनके पास टाइम ही नहीं है
आभार ...........

sm said...

no one has time to think about India.