Sunday, January 24, 2010

भारतीय गणतंत्र के ६० वर्ष पूरे यह साठा पाठा हो





भारतीय गणतंत्र के ६० वर्ष पूरेहोने जा रहे हैं ६१वे गणतंत्र मनाने के लिए देश मैं तैयारियां हो रही हैंइस अवसर पर अपने[वैभव] विकास की झलक दिखलाई जाती है कार्यालयों में ध्वजारोहण समारोह्पूर्वक मनाया जाता हैउसके बाद लड्डू बांटे जाते हैंअर्थार्थ ख़ुशी मनाई जाती है गण को आगे रखने के दावे किये जाते हैंराजपथ पर [विकास की]झांकियां निकाली जाती हैं आतंकवाद को जड़ से मिटाने के आश्वाशन दिए जाते हैं
कहा जाता है की इतिहास के अध्यन से वर्तमान में चलना चाहिए इससे भविष्य भी सुधरता है वर्तमान विसंगतियों को देखते हुए लगता है की हमने इतिहास को किताबों में ही कैद करके धूल फांकने को रख छोड़ा हैराजधानियों के अलावा ध्वजारोहण की ओपचारिकता ही निभाई जाती हैकार्यालयों[केंद्र]में एक दिन पहले ही लड्डू बाँट दिए जाते हैं२६ को राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता हैछोटे बाल कलाकारों के आकर्षक कार्यक्रम होते हैंइसके बादअधिकारी और कर्मचारिओं को अलग अलग जलपान कराया जाता हैफिर छुट्टी सरोकार केवल भाषण बाज़ी तक ही सीमित रह जाता है दिल्ली + मुम्बई या सीमाओं पर आतंकवादी अपने ऑटोग्राफ दे जातेहैं कहने का तात्पर्य हे की सर्वत्र अपराध+भ्रष्टाचार+महंगाई+छेत्रवाद+अशिक्षा+++++++बेलगाम फ़ैल रहे हैंझ्ल्लेविचारानुसार इन राष्ट्रीय पर्वों पर पारदर्शिता अपना कर अपराध+भ्रष्टाचार+महंगाई+छेत्रवाद+अशिक्षा+++++++की झांकी भी निकाली जानी चाहिए गण को आगे रखने को किये गए [वास्तविक]कार्यों का ग्राफ दिखाना चाहिए

4 comments:

BK Chowla, said...

It is a great day on the 26th Jan.
We became a Republic 6 years ago and independent 62 years ago.
We are independent--are we free?

Babli said...

बहुत सुन्दर लिखा है आपने! गणतंत्र दिवस इस साल बहुत ही ख़ास है!

Babli said...

आपको और आपके परिवार को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

Everymatter said...

you have presented a real picture

keep writing