Sunday, October 18, 2009

दीपावली सब के लिए शुभ हो|


अबकी दीपावली सबके लिए शुभ ही रही व्यापारिओं से लेकर कर्मिओं तक सभी की पौ बारह ही दिखाई दीयह पिक्चर केवल २०%देश वासिओं की ही कही गई हे[शेष के लिए दीपावली हमेशा की तरह ही रही]शायद इसी लिए सब तरफ़[ त्यौहार पर] बाजारवाद हावी रहाइस बाजारवाद में त्यौहार की परम्परा+पवित्रतता +प्रस्तुतिऔर प्रासंगिगता पर स्वाभाविक प्रश्नचिन्ह लगाए गए हैंबाज़ारवाद के लिए काला धन के साथ साथ मीडिया भी उत्तरदायी हे

अमेरीका में आर्थिक मंदी के पीछे बाजारवाद ही था मगर भारत में सदिओं से उत्सव प्रिय रहा हे अतःयहाँ लोग बाज़ार के हाथों लुटने के बजाये उसका उपयोग करना बखूबी जानते हैंयही कारण हे की इस ऐतिहासिक उत्सव पर मंदिसुर के दर्शन नही हुएयहाँ लोगों ने बाज़ार को अपने लिए बखूबी इस्तेमाल किया

मेरा बड़ा बेटा अमेरीका में हे उसका त्यौहार पर घर आना सम्भव नहीं हुआ सो हमारी श्रीमती जी ने कम्पूटर आन किया वेब कैमरा चालु किया और हेड फ़ोन लगा कर बेटे को ऑन लाइन करके पूजा की

बेशक अमेरीका हमसे कहीं अधिक विकसित हे मगर हमसे १२५ घंटे पीछे ही हे इसी कारण यहाँ रात्रि में पूजन हुआ तो वहाँ सुबह ही बेटेश्री को इसका लाभ उठाना पडा

4 comments:

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर लगा, ओर आप की पुजा भी हो गई.ओर बेटे को भी नेट पर मिल लिये, लगता है आप मे १२,५ की जगह १२५ लिख दिया है. आप को दिपावली की बधाई

Udan Tashtari said...

ये बढ़िया रहा..अमरीका बैठे भारत में पूजन दर्शन हो गया.

"शुभ दीपावली !"

राजीव तनेजा said...

नैट का एक फायदा यह भी है

BK Chowla said...

Technology,you are lucky that you went through the rituals.